Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts from ‘June, 2018’

कच्छ कच्छी कच्छीयत !

कच्छ – कच्छी – कच्छीयत.

त्रे बाजु खारो धरीया ने,
हॅकडी बाजु खारो पट ;

तेंजे विचमें मॅठो विरडो,
ई असांजो कच्छ….

मॅठो असांजो कच्छ,
ने मॅठा कच्छी माडु;

जेते बोलाजे कच्छी बोली ,
ई असांजो कच्छ. . . .

भाईचारो असांजो बेमिसाल,
जेंजो नांय जगमें जोटो ;

संत, शुरे ने डातारेमें छॅलके ती कच्छीयत,
ई असांजो कच्छ. . . .