Kutchi Maadu Rotating Header Image

सच्ची जीत

Kachchhi quotes

वसी विन

जय हिंद

अैयुं माडु

अैयुं माडु

अैयुं माडु मानवता
संभारियुं,
जात माडुजी जगमें
निखारियुं,

रखी धिलजी खडकी
में प्रेम डीयो,
पांजे अंतर जो
अंगण उजारियुं,

ध्रोय वेर नें,
विख जा मकान;
लाट लागणीजी,
भुंगी भनाइयुं.

वढे लोभ अने,
लालचज्युं जडुं;
कूडे करम जे,
कंढे के बारियुं.

अचे अमृत जी आव,
छिले धिल;
सचे आचारें के,
ज आवकारियुं.

छडे सवारथ जो,
सहेर “जयु” हल;
पांजे गामडेमें,
जींधगी गुजारियुं.

-जयेश भानुशाली “जयु”

कच्छ मोलक

डान,धरम नॅ डयाजी
डॉलत सें भर्यो ही
कच्छ मोलक पांजो कॉडीलो
मान पान ने मोडसाई
मॉभत भर्यो आय
हिक हिकडो कच्छी मॉजीलो

अमृताबा

बोजांतो

बोजांतो
——–‐—–

संत निइया त कोर थओ
धरम करम जा पंध बोजांतो
अखींएं जे आरीसे केतरा
लज़ सरम जा बंध बोजांतो
साधु थे पोय साध भने सें
जींयण जंग भनी पॅ जानी
डुखड़ा सिइने जग़ में रिइने
कीं ग़नणू आनंध बोजांतो

🙏🏻✍✍✍🙏🏻
नेणशीं भानुशाली जानी

इगीया थी तूं

इगीया वधेला संघर थी तूं!
वाट भधली सधर थी तूं!
सुकल भोमकाके भिजायला,
मिठे नीरजो वडर थी तूं!
कामण कजरारी अखीयें जो,
आंञण अखजो सखर थी तूं!
थधी थधी थधकार डिईने,
फुल मथे विलजो अतर थी तूं!
भाग(निसीभ) तॉजो लिखेला करी
कोरे कागर ते लिखांधल अखर थी तूं!
कवयित्री : भारती गडा

प्रेम करियुं

गझल

हलो हाणे खिल सें प्रेम करियुं,
फूड छडयो,धिल सें प्रेम करियुं.

वडर नतो वसे, सिकाय प्यो पे,
पन तें विठी, विल सें प्रेम करियुं

मानी मिठी लगधी सकर जॅड़ी,
कढयो सट , मुल सें प्रेम करियुं.

तावडी तपेती तडे,मानी पचेती,
गाल सची, चुलसें प्रेम करियुं.

खिलेंता नें रभ जे पगेंमेँ छणेता,
खुसभू डींधल, फुलसें प्रेम करियुं.

-कृष्णकांत भाटिया ‘कान्त ‘

ATM

तान्का

मा ने पे पाला
A.T.M. भनॅता त
मायतरे ला
पा आधार कारड
न भने सगु कुरो

~ हिना भेदा
तान्का(Tanka) अने हाईकु मूर जापान जा काव्य प्रकार अंइ जोको अज विश्व जी मिणी सम्रुद्व भासाओ में प्रचलित अंइ . तान्का ५-७-५-७-७ श्रुति में पंज पंक्ति जो काव्य आय *.मेटसुओ बाशउ (१६४४-१६९४) तान्का जी पॅली त्रे लाइन *५-७-५ गिनी होककुं नां डई रजु कें जेंजो अरथ थीये तो प्रारंभिक कडी जेंके १९ मी सदी जे उतरार्ध में माशाओका शिकि हाईकु (Haiku) नां डई प्रचलित कें. √b संकलन : CA विज्ञेश भेदा

कच्छी साहित्य ग्रुप

कच्छी साहित्य ग्रुप ला करे क्लिक कर्यॉ www.facebook.com/kutchisahitya