Kutchi Maadu Rotating Header Image

छिलांग

तॉजी वाट तें कोय
खडो करे त कॅनी
तूं नाराज न थीज
आभार मनी गिञ
वसंत ई ऊ आय
जुको तॉके छिलांग
मारे जो सिखायतो
*- वसंत मारू…चीआसर*

वसंतराणी…

वसंतराणी….

नवले सोरॅं सणगारें महेकंधे आवई वसंतराणी
फुलडेंजा जांजर छमछमंधे आवई वसंतराणी

कोयलडीयूं कुणकारीएं, मोरलां आवकारीएं
पखीयेंजा स्वागत वधाइंधे आवई वसंतराणी

कवली कुंपर लचॅंत्यूं नें नचॅं लागणी डारें
खिसकोलीएं भॅरी रमंधे आवई वसंतराणी

नंयारङ, नंयाउमंग नें नंयेतरङे सोभेती धरा
प्रकृतिजी जुआणाई खीलाइंधे आवई वसंतराणी

केसूडे जा कामण सिज઼ सोन छाबें तां हींचें
वासंती वावरा चूमींधे आवई वसंतराणी

‘मन’ पिरीं मिलणें हेज तां हींयें हिलोरेंतो
कसधार बखुं भरींधे आवई वसंतराणी

मनीषा अजय वीरा ‘मन’🌹

खाराई ओठ

नाय थका

*नाय थका..*

पग थका.. घुडा थका.
मंजिल ते पोजे जा थडकार
नाय थका..

भले बायपास वे के एन्जियोग्राफी ..
जिंदगी माणे जा धबकार
नाय थका..

भले रमुंता हेवर ओनलाईन ते..
पण चलक चलाणी रमे जा
ओरता नाय थका..

भले हॅवर मलुंता फेस बुक जे फरिये ने वोटस अप जे अंगण मे
पण बईयार फेस टु फेस मलेजा अरमान नाय थका..

मतलबी धोनिया मे कोय कोय जो नाय..
पण मतलब वगर याद कईंधल धोस्तार नाय थका

-विनोद

ईनजो नालो माडु

रंग

कच्छी चॉवक :काठ जी कुनीं हिकीयार चडॅ

🔸कच्छी साहित्य गृप मुंबई🔸

. 🔹 कच्छी चॉवक – ३ 🔹

. काठ जी कुनीं हिकीयार चडॅ

काठ ईतरे क लकडेजी कुनी के पां चुल ते चडा઼ईयो त ईन समो तें पां पांजो रधो खाधो रधे सगों प काठ जी हूंधे उबारे से ई धुखी विंञे नें बिईयार फिरी कम अचे ઍ
एडी रॅ नती

. ▪️भावार्थ ▪️
कोय प सबंध क वॅवार जो पां सामले माडू जे विश्वास जे कारणे हिकीयार पांजो स्वार्थ साधे सगों अथवा ईन सबंध जो गॅर उपयोग करे सगों प ऐडो करेला वेंधे पां ई सबंध विंञाय गिनधा हूओंता

. 🔸संकलन – रजूआत🔸
हरेश दरजी ‘कसभी’
‌ नलीया कच्छ

🌹 सुभेच्छाउं डीयूंता 🌹

🌹 सुभेच्छाउं डीयूंता 🌹
🌴सवंत २०७८🌴

नउं वरे विने न त्रांसो ,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता
नबरो भधले ऊ पासो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

नेढूं भनी भले विठा
जिजा नेढूं भनी रोजा
वरे रे आंजो खासो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

ऐयूं संसारी संसारमें रुंता
अचे पैयूं उपाधीयूं
मिले नसीभजो जासो
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

मंगधल अचे न ઑडा,
खीर में धूईने डेणा
कारतकथी अचे आसो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

मान मरतबो मिले जिजो
चमके अभमें कांत तारो
मथे गरुकृपाजो चांसो
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

कें से कीं गाल केणी

कें से कीं गाल केणी
ई पण संस्कार सिखाइता ।
मंधर में ब हथ जोड़े ,
गुरु से मथो नमाय
गाल केणी खपे ।

“मा ” विटे पेट छुटी ने
बापा से मान मोभो रखी
गाल कराजे ।

,भा,से धिल खोले ,
,भेण,से हीयारी डिईने
गाल केणी खपे ।

बार – बच्चे से प्यार से,
ने घरवारी से
हीये जो हट
खोले ने गाल कराजे,
सं, कानजी “रिखीयो”

रक्षाबंधन प्रसंगे कच्छी गीत : भॅणूं

https://youtu.be/LZZZE-lZx38