Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts under ‘General’

मिणींके शुभ धनतेरस

रंग

कच्छी चॉवक :काठ जी कुनीं हिकीयार चडॅ

🔸कच्छी साहित्य गृप मुंबई🔸

. 🔹 कच्छी चॉवक – ३ 🔹

. काठ जी कुनीं हिकीयार चडॅ

काठ ईतरे क लकडेजी कुनी के पां चुल ते चडा઼ईयो त ईन समो तें पां पांजो रधो खाधो रधे सगों प काठ जी हूंधे उबारे से ई धुखी विंञे नें बिईयार फिरी कम अचे ઍ
एडी रॅ नती

. ▪️भावार्थ ▪️
कोय प सबंध क वॅवार जो पां सामले माडू जे विश्वास जे कारणे हिकीयार पांजो स्वार्थ साधे सगों अथवा ईन सबंध जो गॅर उपयोग करे सगों प ऐडो करेला वेंधे पां ई सबंध विंञाय गिनधा हूओंता

. 🔸संकलन – रजूआत🔸
हरेश दरजी ‘कसभी’
‌ नलीया कच्छ

🌹 सुभेच्छाउं डीयूंता 🌹

🌹 सुभेच्छाउं डीयूंता 🌹
🌴सवंत २०७८🌴

नउं वरे विने न त्रांसो ,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता
नबरो भधले ऊ पासो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

नेढूं भनी भले विठा
जिजा नेढूं भनी रोजा
वरे रे आंजो खासो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

ऐयूं संसारी संसारमें रुंता
अचे पैयूं उपाधीयूं
मिले नसीभजो जासो
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

मंगधल अचे न ઑडा,
खीर में धूईने डेणा
कारतकथी अचे आसो,
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

मान मरतबो मिले जिजो
चमके अभमें कांत तारो
मथे गरुकृपाजो चांसो
एडी सुभेच्छाउं डीयूंता

आयो अज नउं वरे

आयो अज नउं वरे
(ढाळ- झीणो झीणो उडे रे गुलाल )
खिली खिली मिली गिनूं पां,
आयो अज नउं वरे
बख विजी मिली गिनूं पां,
आयो अज नउं वरे…

सतोतेर विईने , अठोतेर आवई
विक्रम संवतजी, साल भधलाई
डटो नउं लगाई गिनूं पां,
आयो अज नउं वरे

सूकनमें मीठो, उथी गिनूतां
भांक फूटे ने , सड सूणूंता
मीठो गिनी वधाई गिनूं पां,
आयो अज नउं वरे

गडा भरीने , हुंभ ठलायूं
हाल पुछीने , हेत वतायूं
हींयारी से भिंजाई गिनूं पां
आयो अज नउं वरे

संसार चकीमें, अटो पीसायूं
कांत आतमके, अना भीसायूं
गुरु वाणी पिराई गिनूं पां
आयो अज नउं वरे

शुभ डीयारी ! साल मुबारक!

कें से कीं गाल केणी

कें से कीं गाल केणी
ई पण संस्कार सिखाइता ।
मंधर में ब हथ जोड़े ,
गुरु से मथो नमाय
गाल केणी खपे ।

“मा ” विटे पेट छुटी ने
बापा से मान मोभो रखी
गाल कराजे ।

,भा,से धिल खोले ,
,भेण,से हीयारी डिईने
गाल केणी खपे ।

बार – बच्चे से प्यार से,
ने घरवारी से
हीये जो हट
खोले ने गाल कराजे,
सं, कानजी “रिखीयो”

अलग कच्छ राज्य : कीर्तिभाई खत्री साथे हकडी मुलाकात

कच्छ अलग राज्य भनायला आह्वान

कच्छ मे वधारेमे वधारेमे रोजगारजी तकुं ओभी करेला मिणीं कच्छीयें के अरज आय.
मिणींके कच्छी भासा मेज बोलेजी अरज आय.
जय कच्छ !

KachchhSeperateState_1611

(more…)

पंज महत्वजा कार्य पांजे कच्छ ला

पांजी मातृभूमी कच्छ, मातृभासा कच्छी ने पांजी संस्कृति ही पांला करे अमुल्य अईं. अज कच्छ में ऊद्योगिक ने खेतीवाडी में विकास थई रयो आय. बारनूं अलग अलग भासा बोलधल माडु प कच्छमे अची ने रेला लगा अईं. हॅडे वखत मे पां पांजी भासा ने संस्कृति के संभार्यूं ही वधारे जरूरी थई व्यो आय. अमुक महत्व जा कार्य जे अज सुधी पूरा थई व्या हुणा खप्या वा ने जे अना बाकी अईं हेनमेजा जे मिणीयां वधारे महत्वजा अईं से नीचे लखांतो.

१. चोवी कलाक जो कच्छी टी.वी.चेनल
अज जे आधुनिक काल में जमाने भेरो हले जी जरूर आय. अज मडे टी.वी. ने ईंटरनेट सुधी पोजी व्यो आय. हॅडे मे पांजा कच्छी माडु कच्छी भासा मे संस्कृति दर्सन, भजन, मनोरंजन, हेल्थ जी जानकारी ने ब्यो घणें मडे नेरेला मगेंता ही सॉ टका सची गाल आय. हेनजे अभाव में पांजा छोकरा ने युवक पिंढजी ऑडखाण के पूरी रीते समजी सकें नता. खास करेने जे कच्छ जे बार रेंता हु कच्छी भासा ने संस्कृति थी अजाण थींधा वनेंता.
कच्छी टी.वी.चेनल ते चॉवी कलाक कच्छी भासा में अलग अलग जात जा प्रोग्राम जॅडीते न्यूज, सीरीयल, हास्य कलाकार, खेतीवाडी जा सवाल जवाब, भजन, योगा,….नॅरेला मलें त कच्छी माडु धोनिया में केडा प हुअें कच्छ हनींजे धिल जे नजीक रॅ ने कच्छ प्रत्ये ने कच्छी भासा प्रत्ये गर्व वधॅ. भेगो भेगो पिंढजी ऑडखाण मजबुत थियॅ. ही कार्य मिणींया महत्वजो आय.
२. स्कूल में १ थी १० सुधी कच्छी भासा जो अभ्यास
अज कच्छ जे स्कूल में बो भासाएँ में सखायमें अचॅतो गुजराती ने ईंग्लीस. कच्छी भासा जे पांजी मातृभाषा आय ने घणे विकसित आय ही हकडी प स्कूल नाय जेडा १ थी १० धोरण सुधी सखायमें अचींधी हुए. कच्छी भासा जे उपयोग के वधारे में अचॅ त ही कच्छीयें ला करे सारी गाल आय ने स्कूल में सखायमें अचे त हनथी सारो कोरो. भोज, गांधीघाम जॅडे सहेरें में जेडा बई कम्युनीटी ( गुजराती,सींधी,हींदीभाषी,….) जा माडु प रेंता होडा ओप्सनल कोर्स तरीके रखेमें अची सगॅतो. १ थी १० क्लास सुधीजो अभ्यासक्रम पांजा कवि, साहित्यकार ने शिक्षक मलीने लखें त हेनके स्कूल में सखायला कच्छी प्रजा मजबूत मांग करे सगॅती. जॅडीते गुजरात, महाराष्ट्र,…. मे मातृभासा जो अभ्यासक्रम त हुऍतोज.

(more…)

मिणींके शुभ नवरात्री !

Matajo madh Live Navratri Vrat Recipes —————————-

स्वतंत्रता डींजी जजी वधायुं

🇮🇳 आं मणीं के ७५ मो स्वतंत्रता डींजी जजी जजी वधायुं खूब खूब शुभेच्छाउं. स्वतंत्रताजो अमृत महोत्सवजो ही वरें देशवासीओमें नवी उर्जा , नवी चेतना अने ऊमंग भर्यो वने.🇮🇳

जय हिन्द!,पांजो कच्छडो,पांजे संस्कृति के नमन

🙏 मूजी मातृभूमि के नमन🙏

पग जमींतेज टकधा

धोस्तार ! Happy Friendship day

धोस्तार
—————

यार मुंजा लेर सें जींधे डिठा,
थै हकल माभोमजी, मरधे डिठा.

वाट न्यारे यार जी रूंधे डिठा ,
सड सुयां इनजो अने खिलधे डिठा.

प्रेमभगती में जडें बुडधे डिठा,
भव जे धरिया में तडें तरधे डिठा.

डुख डिसी बें जा, डुखी थींधे डिठा,
सुख डिसी ने मोजसें छिलधे डिठा.

भुल असांजी पिंढ कबुलींधे डिठा,
भध असांजी पिंढ तें खणधे डिठा.

विज भनी अभमें कडें खिवधे डिठा,
ने घड઼ीमें थइ गजण गजधे डिठा.

ढींगला हक जा मिलें, गिनधे डिठा,
भागमें जेंजे हुवें, डींधे डिठा.

मालपूआ रात डीं खेंधे डिठा,
ने कडें पाणी मथे परधे डिठा .

चुल मिजारा काठ थइ बरधे डिठा,
हंज में वानी भनी ठरधे डिठा .

‘पुष्प ‘ तोजी फोर में फिरधे डिठा,
पण, खुटी बाजर तडें खिरधे डिठा.

—पबु गढवी ‘पुष्प ‘

ધોસ્તાર
—————

યાર મુંજા લેર સેં જીંધે ડિઠા,
થૈ હકલ માભોમજી, મરધે ડિઠા.

વાટ ન્યારે યાર જી રૂંધે ડિઠા ,
સડ સુયાં ઇનજો અને ખિલધે ડિઠા.

પ્રેમભગતી મેં જડેં બુડધે ડિઠા,
ભવ જે ધરિયા મેં તડેં તરધે ડિઠા.

ડુખ ડિસી બેં જા, ડુખી થીંધે ડિઠા,
સુખ ડિસી ને મોજસેં છિલધે ડિઠા.

ભુલ અસાંજી પિંઢ કબુલીંધે ડિઠા,
ભધ અસાંજી પિંઢ તેં ખણધે ડિઠા.

વિજ ભની અભમેં કડેં ખિવધે ડિઠા,
ને ઘડ઼ીમેં થઇ ગજણ ગજધે ડિઠા.

ઢીંગલા હક જા મિલેં, ગિનધે ડિઠા,
ભાગમેં જેંજે હુવેં, ડીંધે ડિઠા.

માલપૂઆ રાત ડીં ખેંધે ડિઠા,
ને કડેં પાણી મથે પરધે ડિઠા .

ચુલ મિજારા કાઠ થઇ બરધે ડિઠા,
હંજ મેં વાની ભની ઠરધે ડિઠા .

‘પુષ્પ ‘ તોજી ફોર મેં ફિરધે ડિઠા,
પણ, ખુટી બાજર તડેં ખિરધે ડિઠા.

—પબુ ગઢવી ‘પુષ્પ ‘

गामजो चॉरो : कंटोलेंजी खेती प्रस्तुती निलम कारिया

चिंधीने छडीजा तीर

सच्ची जीत

Kachchhi quotes

पांजो वतन

समोजी गाल