Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts under ‘General’

सोख डोख

सोख डोख

सोखने डोख बोंय
अइ धोस्तार,
माडुयेंजे जीयणजा
इ अंइ आधार

हिकड़ो विञे सडा
ब्यो हाजर वे,
एडो प इनीमें
थ्यो आय करार

हीं नेर्यो त बींजा
भाग प सरखा,
इनीमें भागजी कींं
प नाय तकरार

सियारे सिज सोख
संउ टूंको प्यो लगे,
डोख लगे कर खणी
उभो वे वणजार

माडुयेंजो जीयण त
इंज हलधो हलेतो,
कडेंक इ घरमें वे
कडेंक इ घरनुं बार

सुख सिपरी संउ
इ मिठो लगे प्यो
डुख कुंभारजाजो डेप्यो
कीं अणसार

फुलते मांक विठीवे
एडा थइने रोजा
‘धुफारी’चे आंजो
धन थींधो अवतार.

कच्छी भेल કચ્છી ભેળ Kachchhi Bhel

अलग कच्छ राज्य : कीर्तिभाई खत्री साथे हकडी मुलाकात

कच्छ अलग राज्य भनायला आह्वान

कच्छ मे वधारेमे वधारेमे रोजगारजी तकुं ओभी करेला मिणीं कच्छीयें के अरज आय.
मिणींके कच्छी भासा मेज बोलेजी अरज आय.
जय कच्छ !

KachchhSeperateState_1611

(more…)

पंज महत्वजा कार्य पांजे कच्छ ला

पांजी मातृभूमी कच्छ, मातृभासा कच्छी ने पांजी संस्कृति ही पांला करे अमुल्य अईं. अज कच्छ में ऊद्योगिक ने खेतीवाडी में विकास थई रयो आय. बारनूं अलग अलग भासा बोलधल माडु प कच्छमे अची ने रेला लगा अईं. हॅडे वखत मे पां पांजी भासा ने संस्कृति के संभार्यूं ही वधारे जरूरी थई व्यो आय. अमुक महत्व जा कार्य जे अज सुधी पूरा थई व्या हुणा खप्या वा ने जे अना बाकी अईं हेनमेजा जे मिणीयां वधारे महत्वजा अईं से नीचे लखांतो.

१. चोवी कलाक जो कच्छी टी.वी.चेनल
अज जे आधुनिक काल में जमाने भेरो हले जी जरूर आय. अज मडे टी.वी. ने ईंटरनेट सुधी पोजी व्यो आय. हॅडे मे पांजा कच्छी माडु कच्छी भासा मे संस्कृति दर्सन, भजन, मनोरंजन, हेल्थ जी जानकारी ने ब्यो घणें मडे नेरेला मगेंता ही सॉ टका सची गाल आय. हेनजे अभाव में पांजा छोकरा ने युवक पिंढजी ऑडखाण के पूरी रीते समजी सकें नता. खास करेने जे कच्छ जे बार रेंता हु कच्छी भासा ने संस्कृति थी अजाण थींधा वनेंता.
कच्छी टी.वी.चेनल ते चॉवी कलाक कच्छी भासा में अलग अलग जात जा प्रोग्राम जॅडीते न्यूज, सीरीयल, हास्य कलाकार, खेतीवाडी जा सवाल जवाब, भजन, योगा,….नॅरेला मलें त कच्छी माडु धोनिया में केडा प हुअें कच्छ हनींजे धिल जे नजीक रॅ ने कच्छ प्रत्ये ने कच्छी भासा प्रत्ये गर्व वधॅ. भेगो भेगो पिंढजी ऑडखाण मजबुत थियॅ. ही कार्य मिणींया महत्वजो आय.
२. स्कूल में १ थी १० सुधी कच्छी भासा जो अभ्यास
अज कच्छ जे स्कूल में बो भासाएँ में सखायमें अचॅतो गुजराती ने ईंग्लीस. कच्छी भासा जे पांजी मातृभाषा आय ने घणे विकसित आय ही हकडी प स्कूल नाय जेडा १ थी १० धोरण सुधी सखायमें अचींधी हुए. कच्छी भासा जे उपयोग के वधारे में अचॅ त ही कच्छीयें ला करे सारी गाल आय ने स्कूल में सखायमें अचे त हनथी सारो कोरो. भोज, गांधीघाम जॅडे सहेरें में जेडा बई कम्युनीटी ( गुजराती,सींधी,हींदीभाषी,….) जा माडु प रेंता होडा ओप्सनल कोर्स तरीके रखेमें अची सगॅतो. १ थी १० क्लास सुधीजो अभ्यासक्रम पांजा कवि, साहित्यकार ने शिक्षक मलीने लखें त हेनके स्कूल में सखायला कच्छी प्रजा मजबूत मांग करे सगॅती. जॅडीते गुजरात, महाराष्ट्र,…. मे मातृभासा जो अभ्यासक्रम त हुऍतोज.

(more…)

सुभ दियारी ! साल मुबारक ! Happy New Year !

सुभ नवरात्री २०१९ ! Shubh Navratri 2019

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम: ||

Mata je madh ja Live darshan 2019 (www.matanamadh.org)
https://youtu.be/I-lerKHDduE

जय माताजी !
या देवी सर्वभूतेषु विष्णुमायेति शब्दिता । नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभेतेषु चेतनेत्यभिधीयते। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु निद्रारूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु क्षुधारूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु छायारूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु तृष्णारूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु क्षान्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु जातिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु लज्जारूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु शान्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

यादेवी सर्वभूतेषु श्रद्धारूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु कान्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु वृत्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु स्मृतिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:
या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

साल मुबारक ! मिणीं कच्छी माडुयें के शुभ असाढी बीज !

पगपाणा अचेंता अपार

फुदडी मासी के बोन्वीटा पिरायो

मिणींके हॉरी जी शुभेच्छा ! हॅप्पी हॉरी !

कच्छी चोण ब जण के खपॅ कतरो

कच्छी चोण
—————

ब जण के खपॅ कतरो

धी के जमाइ कोठे व्या
पुतर के वहु पाढे वइ
हाणें ता पां ब ज रया.

हकडो छापो दुध जी थेली
रोज नंढी मटुकडी
पाणी जजो थइ प्यो.
चा ने खंड जा डाबला
मड खाली थीए.

कोलगेट\\मसरी डेढ मेणो हलॅ
एंशी ग्राम जी लक्स गोटी मेंणो हलॅ.

जमें में शाक वे
त दाळ न वे तोय हलॅ
रोगी दाळ वे तोय भयोभयो.
ब डीं ये खचडी ने छाय
सो कोबी, पा दुधी
अढीसो भींढा
लींबो-कोथमरी
हप्ते जो शाग

बाचको धउं, पंज कीला चोखा, कीलो तेल
गोंध थे प्यो राशन.

नंढा टोपला-छीबा ने वाटका
ब थाळी अठ डो वासण
हकडा कीलो विम पावडर
महिनो न खुटे.

खोपरे जी शीशी
पफ-पाउढर-टीला आंनण
फक्का थचा

प्रेम-लागणी ड्यो
हतरा ओछा
खल-मस्ती मोज मजा मेळावा खपें ज वठ्ठा लगे मठ्ठा

धी-जमाइ, पुतर-वउ
कडेंक अचें
पोतरा-पोतरी, दोयतरा-दोयतरी अचें
पसली, नवो वरे, वीया-वधाणां
ब-चार डीं
ने पोय उडी वने

अचीजा बईआर मलबो
पल में पाछा
बे जण

पोय यादुं, रटण ने जुनी गाल चोसार्युं!

ब जण के खपॅ कतरो

धी के जमाइ कोठे व्या
पुतर के वहु पाढे वइ
हाणें ता पां ब ज रया.

ब जण के खपॅ कतरो
ही ज सत्य आय
स्वीकार्यो ने माॅज से रोयॉ
: लहेर

हा….आउ धी अंईया

हा….आउ धी अंईया

मुजे जनमजी कोइ खीर न डे ने न वेराय केइ पेडा
. . . . को ज आउ धी अंईया?
मुके चोंधा सपजो भारो ने हलकी चोंधा लूइ
. . . . . .को ज आउ धी अंईया?
हलाई डींधा सावरे चोंधा आय पारकी ओमाण
. . . . . को ज आउ धी अंईया?
सावरे चोंधा वहु अंईये, अंईये पारको लुई
. . . . . को ज आउ धी अंईया?
पोत्तर जणीनीया त ठीक, भन्ढीधा ज जणइ धी
. . . . को ज आउ धी अंईया?
खणी माईत्रेजी लज वेनी सावरे संभारई गच
. . . . को ज आउ धी अंईया
कसोटी त सती सीताजी पण थई त मुजी कोरो विसात
. . . . को ज आउ धी अंईया
पारके के क्या पेंढ जा ,पेंढजे के विसरायो
तो य सावरे मे कोइ न चे के हा . . बेटा तु धी अंईये . . . . हा बेटा तु धी अंईये . . . . को ज आउ धी अंईया???????
. . . . . . . . गुडीया.

હા….આઉ ધી અંઈયા

મુજે જનમજી કોઇ ખીર ન ડે ને ન વેરાય કેઇ પેડા
        . .  . . કો જ આઉ ધી અંઈયા?
મુકે ચોંધા સપજો ભારો ને હલકી ચોંધા લૂઇ
       . . . . . .કો જ આઉ ધી અંઈયા?
હલાઈ ડીંધા સાવરે ચોંધા આય પારકી ઓમાણ
      . . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા?
સાવરે ચોંધા વહુ અંઈયે, અંઈયે પારકો લુઈ
      . . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા?
પોત્તર જણીનીયા ત ઠીક, ભન્ઢીધા જ જણઇ ધી
       . . .  . કો જ આઉ ધી અંઈયા?
ખણી માઈત્રેજી લજ વેની સાવરે સંભારઈ ગચ
       . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા
કસોટી ત સતી સીતાજી પણ થઈ ત મુજી કોરો વિસાત
      . . . .   કો જ આઉ ધી અંઈયા
પારકે કે ક્યા પેંઢ જા ,પેંઢજે કે વિસરાયો
તો  ય સાવરે મે કોઇ ન ચે કે હા . . બેટા તુ ધી અંઈયે . .  . . હા બેટા તુ ધી અંઈયે . . . . કો જ આઉ ધી અંઈયા???????
                             . . . . . . . . ગુડીયા……