Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts under ‘Kutchi Kavita,Chovak,Sahitya (Poetry, Quotes, Literature)’

Kachchhi Sahitya Whatsapp Group

कच्छ अलग राज्य भनायला आह्वान

कच्छ मे वधारेमे वधारेमे रोजगारजी तकुं ओभी करेला मिणीं कच्छीयें के अरज आय.
मिणींके कच्छी भासा मेज बोलेजी अरज आय.
जय कच्छ !

KachchhSeperateState_1611

(more…)

पंज महत्वजा कार्य पांजे कच्छ ला

पांजी मातृभूमी कच्छ, मातृभासा कच्छी ने पांजी संस्कृति ही पांला करे अमुल्य अईं. अज कच्छ में ऊद्योगिक ने खेतीवाडी में विकास थई रयो आय. बारनूं अलग अलग भासा बोलधल माडु प कच्छमे अची ने रेला लगा अईं. हॅडे वखत मे पां पांजी भासा ने संस्कृति के संभार्यूं ही वधारे जरूरी थई व्यो आय. अमुक महत्व जा कार्य जे अज सुधी पूरा थई व्या हुणा खप्या वा ने जे अना बाकी अईं हेनमेजा जे मिणीयां वधारे महत्वजा अईं से नीचे लखांतो.

१. चोवी कलाक जो कच्छी टी.वी.चेनल
अज जे आधुनिक काल में जमाने भेरो हले जी जरूर आय. अज मडे टी.वी. ने ईंटरनेट सुधी पोजी व्यो आय. हॅडे मे पांजा कच्छी माडु कच्छी भासा मे संस्कृति दर्सन, भजन, मनोरंजन, हेल्थ जी जानकारी ने ब्यो घणें मडे नेरेला मगेंता ही सॉ टका सची गाल आय. हेनजे अभाव में पांजा छोकरा ने युवक पिंढजी ऑडखाण के पूरी रीते समजी सकें नता. खास करेने जे कच्छ जे बार रेंता हु कच्छी भासा ने संस्कृति थी अजाण थींधा वनेंता.
कच्छी टी.वी.चेनल ते चॉवी कलाक कच्छी भासा में अलग अलग जात जा प्रोग्राम जॅडीते न्यूज, सीरीयल, हास्य कलाकार, खेतीवाडी जा सवाल जवाब, भजन, योगा,….नॅरेला मलें त कच्छी माडु धोनिया में केडा प हुअें कच्छ हनींजे धिल जे नजीक रॅ ने कच्छ प्रत्ये ने कच्छी भासा प्रत्ये गर्व वधॅ. भेगो भेगो पिंढजी ऑडखाण मजबुत थियॅ. ही कार्य मिणींया महत्वजो आय.
२. स्कूल में १ थी १० सुधी कच्छी भासा जो अभ्यास
अज कच्छ जे स्कूल में बो भासाएँ में सखायमें अचॅतो गुजराती ने ईंग्लीस. कच्छी भासा जे पांजी मातृभाषा आय ने घणे विकसित आय ही हकडी प स्कूल नाय जेडा १ थी १० धोरण सुधी सखायमें अचींधी हुए. कच्छी भासा जे उपयोग के वधारे में अचॅ त ही कच्छीयें ला करे सारी गाल आय ने स्कूल में सखायमें अचे त हनथी सारो कोरो. भोज, गांधीघाम जॅडे सहेरें में जेडा बई कम्युनीटी ( गुजराती,सींधी,हींदीभाषी,….) जा माडु प रेंता होडा ओप्सनल कोर्स तरीके रखेमें अची सगॅतो. १ थी १० क्लास सुधीजो अभ्यासक्रम पांजा कवि, साहित्यकार ने शिक्षक मलीने लखें त हेनके स्कूल में सखायला कच्छी प्रजा मजबूत मांग करे सगॅती. जॅडीते गुजरात, महाराष्ट्र,…. मे मातृभासा जो अभ्यासक्रम त हुऍतोज.

(more…)

हा….आउ धी अंईया

हा….आउ धी अंईया

मुजे जनमजी कोइ खीर न डे ने न वेराय केइ पेडा
. . . . को ज आउ धी अंईया?
मुके चोंधा सपजो भारो ने हलकी चोंधा लूइ
. . . . . .को ज आउ धी अंईया?
हलाई डींधा सावरे चोंधा आय पारकी ओमाण
. . . . . को ज आउ धी अंईया?
सावरे चोंधा वहु अंईये, अंईये पारको लुई
. . . . . को ज आउ धी अंईया?
पोत्तर जणीनीया त ठीक, भन्ढीधा ज जणइ धी
. . . . को ज आउ धी अंईया?
खणी माईत्रेजी लज वेनी सावरे संभारई गच
. . . . को ज आउ धी अंईया
कसोटी त सती सीताजी पण थई त मुजी कोरो विसात
. . . . को ज आउ धी अंईया
पारके के क्या पेंढ जा ,पेंढजे के विसरायो
तो य सावरे मे कोइ न चे के हा . . बेटा तु धी अंईये . . . . हा बेटा तु धी अंईये . . . . को ज आउ धी अंईया???????
. . . . . . . . गुडीया.

હા….આઉ ધી અંઈયા

મુજે જનમજી કોઇ ખીર ન ડે ને ન વેરાય કેઇ પેડા
        . .  . . કો જ આઉ ધી અંઈયા?
મુકે ચોંધા સપજો ભારો ને હલકી ચોંધા લૂઇ
       . . . . . .કો જ આઉ ધી અંઈયા?
હલાઈ ડીંધા સાવરે ચોંધા આય પારકી ઓમાણ
      . . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા?
સાવરે ચોંધા વહુ અંઈયે, અંઈયે પારકો લુઈ
      . . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા?
પોત્તર જણીનીયા ત ઠીક, ભન્ઢીધા જ જણઇ ધી
       . . .  . કો જ આઉ ધી અંઈયા?
ખણી માઈત્રેજી લજ વેની સાવરે સંભારઈ ગચ
       . . . .  કો જ આઉ ધી અંઈયા
કસોટી ત સતી સીતાજી પણ થઈ ત મુજી કોરો વિસાત
      . . . .   કો જ આઉ ધી અંઈયા
પારકે કે ક્યા પેંઢ જા ,પેંઢજે કે વિસરાયો
તો  ય સાવરે મે કોઇ ન ચે કે હા . . બેટા તુ ધી અંઈયે . .  . . હા બેટા તુ ધી અંઈયે . . . . કો જ આઉ ધી અંઈયા???????
                             . . . . . . . . ગુડીયા……

भगवान तॉजी ..

भगवान तॉजी भोमी मथे,
अज ढोंग जा वजेता ढोल.
पिंढजी पत जो पतो न वे,
पारकें जी खोलीएंता पोल.
खेल हलेतो खुटलाइ जो,
ने सचाइ जी थीएती छोल.
अधूरा विठा अईं उंचांइ तें,
नें सजण गुमरी खेंता गोल.
“अगम”


ભગવાન તૉજી ભોમી મથે,
અજ ઢોંગ જા વજેતા ઢોલ.
પિંઢજી પત જો પતો ન વે,
પારકેં જી ખુલીએંતા પોલ.
ખેલ હલેતો ખુટલાઇ જો,
ને સચાઇ જી થીએતી છોલ.
અધૂરા વિઠા અઈં ઉંચાંઇ તેં,
નેં સજણ ગુમરી ખેંતા ગોલ.
“અગમ”

** कच्छी मिठाइयुं **

कच्छी मिठाइयुं
***********

थारीयुं मंढीयुं अंइ, परस्या अंइ पकवान
मुलाजो जरा म करीजा , खेजा वठा मनोमन…

कंठी वागड अभडासे जा, पेडा अंइ नामी
सोनपापडी आय सुंवाली , कींय कढजा म खामी…

साटा ने गगन सोभे ,गुलाटी वारी जलेभी
खन जा कपडा पॅरी , मिठी लगेती बुंधी…

गुलाभजांभु ने रसगुल्ला,चासणी में डुबेला
मोनथार ने गेवर , गी से लचबच लचेला….

चोटीया ने मोधक मगडरीया अंइ वरेला
फिणीया ने गुडीया मट अंइ
सजा भरेला….

तलपींढो ने तलसाखडी , जुआरे में चडेंता
पगे लगो कुलदेवी के , पांके परसाध मलेंता…

भुंसेली बाजरजी मानी, कुलर जा फक भरियेता
वांची अंइ थीजा राजी, आंग्या “कांत” थार धरियेंता…..

कच्छजी करीयां गाल !!!

!! कच्छजी करीयां गाल !!

कच्छजी करीयां गाल यार (२)
कच्छडो आय कमाल मुंजे
कच्छजी करीयां गाल…..(२)

आइ आशापुरा जो आय मीठडो रे मढ गाम.
कोटेश्वर जी छांइ में आय नारायण जो धाम…..कच्छजी करीयां गाल

वसे रावर पीर जत्ते वजे मठा वाज..
जीगरी हाजीपीर जुको रणमें करे राज…..कच्छजी करीयां गाल

वागड देश वल्लो माता रवेचीजो ठाम.
सुरें जो सरताज उभो आय अभडो जाम…..कच्छजी करीयां गाल

धीणोधर तां डुंगर एडो कच्छडे जो गीरनार….
भुजीयें डुंगर जेडो कत्ते झोटो नांय यार…..कच्छजी करीयां गाल

मेकणजी समाधी जत्ते मोंगा मले मान..
जाडेजा जेसल के गाराय तोरल रुडा गान…..कच्छजी करीयां गाल

कामणगारें कच्छडे जा तां सागर जेडा संत..
लोहाणे में थई व्या वलुभगत जेळा संत जे रोटलो ने ओटलो बोय दनो अन्नपूर्णा स्वरूप देवी रूक्षमणि संग….
देव ता बरें डसी एडा पांजां संप…..
कच्छजी करीयां गाल

केडी करीयां गाल अंइ अच्चो हकडी वार…
लखे के लगेतो कच्छ अवध जो अवतार….कच्छजी करीयां गाल

!! जय कच्छ!!

मीं देसे कच्छडो

राजी थीए मनडो….
जॅर मीं देसे कच्छडो…..
ने एडा ज खुशी जा वावड साथे चोंधे पण नें लेखधें पण खुशी थीएती….,
के अज पांजे कच्छ में मेठडे मीं जी ,
पधरामणी थेई आय.
ने हाणे ही पांके ध्रोॅ कराईधो !

मेठडो मीं

मुंभई में मीं त लॅर कराय छडें , पेयो त गोंध पेयो ने हाणे मुंभई में पाणी पाणी करे छडे…., एडी ज रीते ,

हाणे कच्छडे वेनीं ने वस,
जेते खेडु रखी वेठा ऐं तो मथे आश ,
**********
मेठडे मीं जी झरमर वसेती धार….,

हैये खुशी जी हेली अचेती अपार….,

वसी पो वला मन खोले ने अनराधार…,

आय ही धोनीयां जो तो मथे मधार…,

बस हाणे असांजे कच्छडे कोरा नॅर…,

कच्छी टहुको

कच्छी टहुको
*********

छडी डे तुं भरम खोटो . . .
भेगो कोई न साथे अचींधो , , ,

हुंधो करम खासो त . . .
मथे ईज कम अचींधो , , ,

छडीज न पेंढजो ” सत ”. . .
वाट में त डो:ख पण अचींधो , , ,

हूंधा घणे सगा हेतें भलें . . .
मथे तां हेकडो पण कम न अचींधो , , ,

न रख खोटो भरोंसो कें तें . . .
कम तां पेंढजो आतमा अचींधो , , ,

ज हूंधा सच्चा भाव तो जा त , , ,
हली ने सामुं भगवान पण अचींधो . . . !!!

मींयडा वस तुं मोज सें

मींयडा वस तुं मोज सें
वतन असांजे कच्छ
न्याल करी डे कच्छ
अच
भांभरे त्युं गोयुं मैयुं
वछेरा ने वच्छ
मोरला प मलार करींता
मुंध ते वेला अच
वार न लगाइजा
वहेलो अची वस
वाला तोजी
वाट नेरे तो पाँजो कच्छ

कच्छ कच्छी कच्छीयत !

कच्छ – कच्छी – कच्छीयत.

त्रे बाजु खारो धरीया ने,
हॅकडी बाजु खारो पट ;

तेंजे विचमें मॅठो विरडो,
ई असांजो कच्छ….

मॅठो असांजो कच्छ,
ने मॅठा कच्छी माडु;

जेते बोलाजे कच्छी बोली ,
ई असांजो कच्छ. . . .

भाईचारो असांजो बेमिसाल,
जेंजो नांय जगमें जोटो ;

संत, शुरे ने डातारेमें छॅलके ती कच्छीयत,
ई असांजो कच्छ. . . .