Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts under ‘Kutchi Kavita,Chovak,Sahitya (Poetry, Quotes, Literature)’

भगवान तॉजी ..

भगवान तॉजी भोमी मथे,
अज ढोंग जा वजेता ढोल.
पिंढजी पत जो पतो न वे,
पारकें जी खोलीएंता पोल.
खेल हलेतो खुटलाइ जो,
ने सचाइ जी थीएती छोल.
अधूरा विठा अईं उंचांइ तें,
नें सजण गुमरी खेंता गोल.
“अगम”


ભગવાન તૉજી ભોમી મથે,
અજ ઢોંગ જા વજેતા ઢોલ.
પિંઢજી પત જો પતો ન વે,
પારકેં જી ખુલીએંતા પોલ.
ખેલ હલેતો ખુટલાઇ જો,
ને સચાઇ જી થીએતી છોલ.
અધૂરા વિઠા અઈં ઉંચાંઇ તેં,
નેં સજણ ગુમરી ખેંતા ગોલ.
“અગમ”

** कच्छी मिठाइयुं **

कच्छी मिठाइयुं
***********

थारीयुं मंढीयुं अंइ, परस्या अंइ पकवान
मुलाजो जरा म करीजा , खेजा वठा मनोमन…

कंठी वागड अभडासे जा, पेडा अंइ नामी
सोनपापडी आय सुंवाली , कींय कढजा म खामी…

साटा ने गगन सोभे ,गुलाटी वारी जलेभी
खन जा कपडा पॅरी , मिठी लगेती बुंधी…

गुलाभजांभु ने रसगुल्ला,चासणी में डुबेला
मोनथार ने गेवर , गी से लचबच लचेला….

चोटीया ने मोधक मगडरीया अंइ वरेला
फिणीया ने गुडीया मट अंइ
सजा भरेला….

तलपींढो ने तलसाखडी , जुआरे में चडेंता
पगे लगो कुलदेवी के , पांके परसाध मलेंता…

भुंसेली बाजरजी मानी, कुलर जा फक भरियेता
वांची अंइ थीजा राजी, आंग्या “कांत” थार धरियेंता…..

कच्छजी करीयां गाल !!!

!! कच्छजी करीयां गाल !!

कच्छजी करीयां गाल यार (२)
कच्छडो आय कमाल मुंजे
कच्छजी करीयां गाल…..(२)

आइ आशापुरा जो आय मीठडो रे मढ गाम.
कोटेश्वर जी छांइ में आय नारायण जो धाम…..कच्छजी करीयां गाल

वसे रावर पीर जत्ते वजे मठा वाज..
जीगरी हाजीपीर जुको रणमें करे राज…..कच्छजी करीयां गाल

वागड देश वल्लो माता रवेचीजो ठाम.
सुरें जो सरताज उभो आय अभडो जाम…..कच्छजी करीयां गाल

धीणोधर तां डुंगर एडो कच्छडे जो गीरनार….
भुजीयें डुंगर जेडो कत्ते झोटो नांय यार…..कच्छजी करीयां गाल

मेकणजी समाधी जत्ते मोंगा मले मान..
जाडेजा जेसल के गाराय तोरल रुडा गान…..कच्छजी करीयां गाल

कामणगारें कच्छडे जा तां सागर जेडा संत..
लोहाणे में थई व्या वलुभगत जेळा संत जे रोटलो ने ओटलो बोय दनो अन्नपूर्णा स्वरूप देवी रूक्षमणि संग….
देव ता बरें डसी एडा पांजां संप…..
कच्छजी करीयां गाल

केडी करीयां गाल अंइ अच्चो हकडी वार…
लखे के लगेतो कच्छ अवध जो अवतार….कच्छजी करीयां गाल

!! जय कच्छ!!

मीं देसे कच्छडो

राजी थीए मनडो….
जॅर मीं देसे कच्छडो…..
ने एडा ज खुशी जा वावड साथे चोंधे पण नें लेखधें पण खुशी थीएती….,
के अज पांजे कच्छ में मेठडे मीं जी ,
पधरामणी थेई आय.
ने हाणे ही पांके ध्रोॅ कराईधो !

मेठडो मीं

मुंभई में मीं त लॅर कराय छडें , पेयो त गोंध पेयो ने हाणे मुंभई में पाणी पाणी करे छडे…., एडी ज रीते ,

हाणे कच्छडे वेनीं ने वस,
जेते खेडु रखी वेठा ऐं तो मथे आश ,
**********
मेठडे मीं जी झरमर वसेती धार….,

हैये खुशी जी हेली अचेती अपार….,

वसी पो वला मन खोले ने अनराधार…,

आय ही धोनीयां जो तो मथे मधार…,

बस हाणे असांजे कच्छडे कोरा नॅर…,

कच्छी टहुको

कच्छी टहुको
*********

छडी डे तुं भरम खोटो . . .
भेगो कोई न साथे अचींधो , , ,

हुंधो करम खासो त . . .
मथे ईज कम अचींधो , , ,

छडीज न पेंढजो ” सत ”. . .
वाट में त डो:ख पण अचींधो , , ,

हूंधा घणे सगा हेतें भलें . . .
मथे तां हेकडो पण कम न अचींधो , , ,

न रख खोटो भरोंसो कें तें . . .
कम तां पेंढजो आतमा अचींधो , , ,

ज हूंधा सच्चा भाव तो जा त , , ,
हली ने सामुं भगवान पण अचींधो . . . !!!

मींयडा वस तुं मोज सें

मींयडा वस तुं मोज सें
वतन असांजे कच्छ
न्याल करी डे कच्छ
अच
भांभरे त्युं गोयुं मैयुं
वछेरा ने वच्छ
मोरला प मलार करींता
मुंध ते वेला अच
वार न लगाइजा
वहेलो अची वस
वाला तोजी
वाट नेरे तो पाँजो कच्छ

कच्छ कच्छी कच्छीयत !

कच्छ – कच्छी – कच्छीयत.

त्रे बाजु खारो धरीया ने,
हॅकडी बाजु खारो पट ;

तेंजे विचमें मॅठो विरडो,
ई असांजो कच्छ….

मॅठो असांजो कच्छ,
ने मॅठा कच्छी माडु;

जेते बोलाजे कच्छी बोली ,
ई असांजो कच्छ. . . .

भाईचारो असांजो बेमिसाल,
जेंजो नांय जगमें जोटो ;

संत, शुरे ने डातारेमें छॅलके ती कच्छीयत,
ई असांजो कच्छ. . . .

लीला लहेर !

वागड जा पीलु मिठा नें
चोबारी जा लीयार!
खावडे जी मिठाइ तां संभरे लारोलार!
मडई जी मिठी आमरी
बिदडें जा आमां!
ध्रभ जी खारक खाराईंधा मामा
माकपट जो गुंध गुगर
कंठी जा कुंढेर
बन्नी पच्छम जा खीर मखण!
सजे कच्छ में लीला लहेर!

मन पोखींधे सांईं मिले

कण पोखींधे धांईं मिले,
पल पोखींधे छांईं मिले,
पोखींधल थ्या न्याल जेंके
मन पोखींधे सांईं मिले
– गुलाब देढिया
કણ પોખીંધે ધાંઈં મિલે,
પલ પોખીંધે છાંઈં મિલે,
પોખીંધલ થ્યા ન્યાલ જેં કે
મન પોખીંધે સાંઈં મિલે
– ગુલાબ દેઢિયા