Kutchi Maadu Rotating Header Image

Posts under ‘Kutchi Kavita,Chovak,Sahitya (Poetry, Quotes, Literature)’

Kachchhi Tahuko !

छड़ भरम खोटो ,
भेगो केंजो साथ न अचींधो,
हूँधो करम खासो त,
मथे इज कम अचीधो ,
छड़ जे न पढजो “सत” ,
वाटमे त डो:ख पण अचिंधो ,
हूंधा सगा घणे हेते ,
मथे त हेकड़ो पण कम न अचिंधो,
न रख खोटो भरोसो बें तें,
कम त पढजो आत्मl अचिंधो , ज हुंधी सची भक्ति,
त हली सामुं भगवान अचिंधो

Reference : Whatsapp message

मूंजे कच्छडे ते आय मूंके प्यार …

हेकडे छेडे दादो मेकरण
ने बे छेडे आय
मा मढवाली सहाथ

ऐंडे पाजे कच्छडे ते
केर करी शगे वार

मूजे कच्छडे ते
आय मूंके प्यार

भुकंप ने वावाजोडो
गच वधी वेया

हणे धरा नति जले भार
विनती करियांतो
हर कच्छी ते ऐ
न करयॉ अत्याचार

मूंजे कच्छडे ते आय
मूंके प्यार

अनीति छडी
नीती रखो
करयो घर्म जो प्रचार

सचे मारगे पा
हलधाशी त
कलयुग थींधो लाचार

मूंजे कच्छडे ते आय
मूंके प्यार

Reference : Whatsapp message

कच्छी कविता : मंध्धी में अंध्धी

कच्छी नवुं वरें असाढी बीज

कच्छी नवुं वरें असाढी बीज
*******************

अज आवई असाढी बीज,
हुभ छिलकाणी हींयेंं मिंजा, कर घर आयाते
अज आवई…

बख्खुं विजीनें हिकडें बेंके, गडेयो सेठ गरीब
नयें वरे जे’वा नरवा कें, मनजा घणा मरीज.
अज आवई…

ऊभ जामोटया वडरा कारा , चोमल चमकई वीज
गरजी हल्यो तें गगन सजोने, डुंगरा डोल्या रीज
अज आवई…

नीर छलकणा नदी नवाणें, मींयडा वठा अजीभ
मोर मलारें, कोयल टौकई, जन मन छलकाई प्रीत.
अज आवई…

खणी हणसारो खेडु हलेओ, अंघर रखी उमीध
कण मिंजानुं मण थै उपजॅ, डाता भरकत डीज
अज आवई…

नंईं साल मुभारक मिणी के, मालिक मेंर करीज
वॅर जॅर के छडीयुं विसारे. “प्यासी” रखज पतीज.
अज आवई…

: मावजी जेराम भानुसाली (मास्तरजी)

तेज वाणी !

कच्छी शायरी

नेंधर अचॅ त “सपना” अचें
सपना अचें त “तूं” अचें
रोज हेन विचार में रात पूरी थई वनेंती
नती “नेंधर” अचॅ
ने नती “तूं” अचें
****************************
मन थी चोवाजॅ हॅडो मॉ थी न चोवाजॅ
दिल थी देवाजॅ हॅडो हथ थी न देवाजॅ
आउ गाल कढां ने अईं समजॉ तेंके कोर करियुं
वगर चे समजॅ हुज “पन्ढजो” चोवाजॅ

मिठ्ठो पांजो कच्छडो !

कच्छी बालवार्ता : Kachchhi childrens stories

तेज वाणी !


कच्छी सायरी

कच्छी सायरी
**********

न करीज कोय गाल हॅडी जे पूरी न थियॅ
न विचारीज होन विषे जे तॉजी न थियॅ
हेन धोनिया मे प्यार केंजो कॅर पुरो थियॅतो
प्यार जो त पॅल्लो अख्खर ज अधुरो हुवॅतो