Kutchi Maadu Rotating Header Image

आँउ चाँउ : रांध फिटूस

हरिहर
आँउ चाँउ :रांध फिटूस

आँउ: ’भा चाँउ, हि पांजी कच्छी भासा आय बोरी मुडसाईवारी भला’.
चाँउ: ’से त आय प तोके अञ किं खबर पिई’?
आँउ: ’यार, ईं चें त मिडे ता पण सच्ची खबर त अञ पिई’.
चाँउ: ’यार, गारा म चब मंढीने गाल कर’.
आँउ: ’एडो थियो क अञ आँउ मेळावे लाय अचिंधो हो सें तडें हिकडो माडु ओछतो रस्ते विच्च्में छणीने प्यो ने मरी व्यो’.
चाँउ: ’अडे, तो अईंए ज एडो ’भोराळो’ के जेडां विञें तेडांनु मोकाणजा समाचार खणी अचें तो.
पोय कुरो थ्यो? मुडधेके मसाणमें पोजायां क न’?
आँउ: ’न भा, तेस तईं त हिकडा बापा आया ने च्यों क धुनियामें केडा केडा ’विसध्ध’ माडु प्या
अईं.जीवधे त नतो आवडे प मरणुं केडां ईए खबर नती पे. भर रस्तेजे विच्चमें प्या मरें’.
चाँउ: ’पोय’?
आँउ: ’पोय बापाजो दखाडो सुणीने मुड्धो त धिरजीने उभो थ्यो ने चें, बापा माफ कजा भला, भुल थिई वई बापा, ईं चईने मुडधो उथीने बई बाजु रस्ते नीचे विञीं ने सुमी रयो’.

ई सुणीने वडते विठेल कागडे कां कां चालु कें. ने मिणीके लगो क हाणे ’काका कौवो ही
गाल रसिक माराज जे कन तईं पुगी त पिंढजे पोगराममें सुणेमें वार न लगधी.
चाँउ: ’हाणे गाल लगी. हाणे त तोके खबर पिई क कच्छी भारी वटवारी भासा आय’?
आँउ: ’त पोय यार चाँउ, तोजे ध्यानमें होय त वताईज हिकडो मकान भाडे खपेतो’.
चाँउ: ’को तुं रेंतो से मकान त भरोभर आय. भधलायजी कुरो जरूर आय’?
आँउ: ’मुंके रे लाय मकानजी जरूर नाय पण ईनमें आँउ निशाळ खोलीधोसें’.
चाँउ: ’कुरेजी निशाळ’?
आँउ: ’यार, कच्छीएंके एडी मुडसाई वारी कच्छी भासा शिखायजी निशाळ खोले लाय’.
चाँउ: लगेतो दियां दिं तुं वधारे चर्यो थिंधो विञें तो. कच्छी त बुझें ज ता. ईनीके शिखायजी कुरो
जरूर आय? बें के शिखायजी गाल हुए त अञां समजों’.
आँउ: ’मुंके एडो लगेतो क पांजा माडु ज पिंढजी भासा भुलंधा विञें ता. हिकडो त पांजी कोई लिपी
नांय.अञकालजा छोरा कां त ईंगरेजी में बोलेंता अने कां त फिल्मेंजी हिंधी क पोय गुजराती
बोलें प्या. भले मा,पे छट के न समजें. हीं त पांजी कच्छी भासा ज नाभुध थई वेंधी’.
चाँउ: ’ठीक आय प कच्छी केर भणाईधो? तुं’?
आँउ: ’मिठा, पां वटे कच्छीमें धिलजी गालियुं करे ने सुणेवारा जेंती जोशी, माधव जोशी,
नारायण जोशी, कान्ति गोर, जगदीश गोर, गौतम जोशी, बाबुलाल गोर जेडा पांजी
कच्छी भासाजा धुरंधर सारसत विठा अईं से पांके जरूर मधध कंधा’.
चाँउ: ’हल हल वलाला, ई मिडे एडा नवरा अईं क तोजी कच्छी भणाएला अचींधा’?
आँउ: ’वांधो नाय पां बें केंके झली अचींधासीं’
चाँउ: ’हिकडो मकान ध्यानमें आय, भाडो ८०००/- चे तो. तुं चें त कभुल करीउं’.
एतरो भाडो सुणी गदोडो ढकरजी प्यो ने पटते छणी प्यो ने कागडे पिंढजी कच्छी भासामॆ किकराट
करेने बें भावरेंके भेरा करे गिडें.
भाडे कच्छी माडुजी रांध फ़िटूस करे छडें.
त कच्छी भावर, पां पण कच्छी भासा शिखायवारा क्लास चालु थिएं एडी आशा रखों कारण जे
आकाशवाणी भुज मथे ६-९-१२ वटां साझीजो ५.३० थी ५.४५ सुधी सिंधी भासा शिखायजा क्लास
चालु थियेंता एडा समाचार हि लिखांतो तडें ज मिल्या अईंं ई प हिकडो जोगानुजोग आय.

जय कच्छ. आँजो पियुष ०२-०९-२०१२
piyushsutra@gmail.com

facebook share

One Comment

  1. Jay says:

    Kachchh mein rahi kare ne Sindhi bha pan karta vadhare jagruk aein edo lageto . Sindhi TV channel aay hane Sindhi Bhasa jo radio te pa program acheto hi sonine Panja Kutchi Bha pa Kachchhi Bhasa mein TV ne Radio program chalu kareji koshish kariyen hi mahatva jo aay.

    Kachchh mein gujarati bhasa jo prabhav vadhi ryo aay ne purva Kachchh mein tah Kachchhi hanein pela karta ochi sonemein acheti hi Kachchhi bhasa ne Kachchhi Maadu la kare saari gaal na chovaje.
    Paan gharme ne baar panje Kachhchi bhaein bhero Kachchhi menj gaal kariyun hedi medeinke araj (request) aay.

    Jai Kachchh!

Leave a Reply