Kutchi Maadu Rotating Header Image

अखर …

अखर नं जांणां अेकड़ो, नें बुली नं जांणां बिई
मा सरस्वती स्हाय थ्या, त जिभान खुली विई
: कवि वाछीया चंदे
facebook share

Leave a Reply