Kutchi Maadu Rotating Header Image

कच्छडे के तुं न्याल कर ….

मींयडा वस तुं मोज सें असांजे वतन कच्छ ते
न्याल करी डे कच्छ के अषाढी बीज जो अच
भांभरे त्युं गोयुं मैयुं वछेरा ने वच्छ
मोरला प मलार करींता मुंध ते वेलो अच
वार न लगाइजा
वहेलो अची वसी पो …

अषाढ उभो आय उंभर तें जेठ थ्यो पूरो!
वसी पो वला मोडो म कर ऐयें सतें पेढीयें सुरो!

वसी पो तुं वेलो अची डुकार डिठा अयीं गच
ब्या डिठा अैइ वांचडीया ने धरा धुबेजो डप
खेड आडु हरोरी करींये ब्ये गोठ वने जी गत
नर्मदा मा जे आसरे ते मड मड रेइ आय पत
हाणे जल्धी अच
पाणी व्या पातार में …

मन छडी ने वस वल्ला मोडो कर म वीर!
सिकें असांजीयुं अखडीयुं न्यारेला मिठडा नीर!

ओगनाय छड डेम तरा ने मोराय डे राममोल!
आणां पियाणां जियाणां खोंभी जो माहोल!

ठा जला़य म ठाकर ही लगे नतो खासो!
वसी पो वला वमभरे म कर जिजो तमासो!

पाणी व्या पातार में वाडीयुं सुकीयुं भठ्ठ
डेम तरायुं खाली खम अंइ पाणी नाय निपट
वगडो सोको वेरान थेयो आय जनावरें जी नांय गत
झाड पोखेजो जोर करीयुं प पाणी आय तो वट
पर्यावरण के लगी पिट
वेसलो न कर वसे पो …

वेसलो न कर वसीपो बारो मिंजा डीइ छड अध
चोवटुं करे इन्धर सें कर्यों वसे जी गत
डीठा नैयुं कइ टेम से अभ में इन्धर लठ्ठ
रंग जमी रे कच्छ ते वसायों एडी वस
प्रभु रखो हाणे पत
कच्छडे के तुं न्याल कर …

Reference : email
facebook share

One Comment

  1. dinesh veera says:

    wah wah

Leave a Reply