Kutchi Maadu Rotating Header Image

कच्छ कच्छी कच्छीयत

कच्छ कच्छी कच्छीयत
       ( १ )
उमेध मनमें एतरी,
     कच्छ थीये आभाध !
कच्छी बोली जुग़ जीये,
     कच्छी करीयें याध  !

     ( २ )
मातानूं वडो डेव नांय,
      माजी मनमें याध  !
मातृभूमि मा-बोलीजी,
      नित करीयां आराध !

     ( ३ )
मा-बोली ! जीयें सदा,
     कच्छी करीयें प्यार  !
हींयें में आसन डींयें,
     करीं सदा जयकार  !

      ( ४ )
मुसाफरी हलंधी विठी,
     जेसीं आऊं जीयां  !
मालक ! पूरी आस कर  !
      पोय, मॉत मिठो करीयां  !

     ( ५ )
आस खबर आ ‘ तूंहींके,
      हिकडी़ धिल धारई  !
कच्छी बोली जीये सदा,
      रातॉय-डीं सारई  !

 : माधव जोसी ‘अस्क ‘
facebook share

Leave a Reply