Kutchi Maadu Rotating Header Image

मातृवंधना

मातृवंधना
******
मावलडी़ ! तूं मिठडी़ लगेंती !
सची सुरग जी सुखडी़ लगेंती.
सगा भलें ब्या सॉ सॉ वें पण,
सगपण में तूं सुठडी़ लगेंती !!
जॅर सीयारो सी जी सट डे,
वा विफरॅ नें सोंजो वट डे.
पट ता खॉरे केर सुमारे ?
केर खिलीने ढारी खट डे ?
ऊंढण अड़ जो ऊंढाडी़ंधे,
धड़की विगर पण धिफडी़ लगेंती !
जॅर  अचें डीं ऊनारे जा,
बरंधलके बिमणुं बारे जा !
गालगालमें लंभ धुखी पॅ,
केर करे चॉ ! कम ठारे जा ?
फिरें मथे में थध्युं आंगरीयुं,
तॅर वली, तूं वडरी लगेंती !
धिल जॅडो धिल जॅर डुरी पॅ,
भाग भनॅ लो जॅर भुरी पॅ,
आंधारे में आखड़ंधलके
‘पुतर भचें तूं ‘ केर गुरी चॅ ?
रातुं जागी सेबा डींघल
अघड़ भलें मा ! अघडी़ लगेंती !   
तॉजे नां जा ओटा अडीयुं,
तॉजा कितरा फोटा कढीयुं ?
बुजों न ता मा ब्यो कीं ईतरे,
चारा तोजा खोटा  कढीयुं !
हेज नें हुंभ ज्युं न वें भजारुं !
हिकडी़ निढडी़ हटडी़ लगेंती ! !
फुलडा़ डींधल,फोरुं छडींधल,
फुलवाडी़ ! तूं फुटरी लगेंती !
मावलडी़  !तूं मिठडी़ लगेंती ! !
: डॉ.विसनजी नागडा
सुखडी़- प्रेम जी भेट. सुठडी़-उत्तम. खट-खाटलो.
धिफडी़-सी नुं भचे ला भेगा करेला ब त्रे ऊंढण(धड़कीयुं). अघडी़-थिगडी़.
facebook share

2 Comments

  1. kirti maheshwari says:

    vasanji bha anjo program hikdi vakhat mulund me manyo ho aanke kutchi boli jo jetlo anubhav ay hi garv saman ay

  2. jayesh says:

    dhoniya jo chhedo ghar ne ghar jo chhedo maa
    pitru vandana vaanchdi aay zapate rakho.

Leave a Reply