Kutchi Maadu Rotating Header Image

अय मींयड़ा !

अय मींयड़ा !
वले वतनतें,
आया वठेजा डीं मूंजा मिठड़ा !
वस, हाणें तुं वस अय मींयड़ा ! … वले वतनतें..
पखी पारेवडा आस करीने ,
वनमें विठा अइं , तुं डिस मींयड़ा ! … वले वतनतें..
खेडू खेतर खेड़ीअें पिंढजा,
वसी पुसाय, तुं पट मींयड़ा ! … वले वतनतें..
जोतर बधीनें ढगा जुपायें,
पोखेंके डॅ, तुं जस मींयड़ा ! … वले वतनतें..
गोंइयें मैंयेंजा धण अैं सुनां,
धा पाणी तां डिइ विन मींयड़ा ! … वले वतनतें..
छायजो छमकारो गजे गोठगोठ,
बाजरजी मानीतें, मखण गच मींयड़ा ! … वले वतनतें..
धरातें उतरइ “देव” हेली हरखजी,
तुं खणी आवें आनंध वस मींयड़ा ! … वले वतनतें..
: वेरसीं मातंग “देव”
facebook share

Leave a Reply