Kutchi Maadu Rotating Header Image

कच्छ वतन

वल्ला वतन कच्छ ! असीं , सदा विठा सारीयूं
पल न विसारीयूं ! पल न विसारीयूं !
कारो धोरो नीलवो , घिणोधर निनामुं
झारो डुंगर धार्यों असीं, सदा विठा सारीयूं !
निंधों, वडो रिण नेरयुं, निंढा वडा वेटा उ;
धारिया ज्यूँ लरयुं ! असीं, सदा विठा सारीयूं !
गोंयुं मेंयुं रिढ़ पॉयुं उठियुं भटारीयुं;
खीर नित विलोड़यों असीं, सदा विठा सारीयूं !
रापार भचाउ मडई मुनरो अंजार न्यारः
भोज ज्यूँ भाजारयुं असीं, सदा विठा सारीयूं !
काफ़यूं गीत रास रंग , पावा सोणायुं चंग;
सांई के संभार्यों असीं, सदा विठा सारीयूं !
पेरुं बेर लीयार लर, खारक मेवा बावर खर;
गुवार मुड बाजरीयुं असीं, सदा विठा सारीयूं !
मोरला मलारियें नित कुंजड़युं कुणकारियें ;
सेंण ! आँकें सार्यों असीं, सदा विठा सारीयूं !
सुरा संत सांयर पीर , डातार जन्में जते;
सतीयूं पघमणीयुं असीं, सदा विठा सारीयूं !
मालक जी छल थिए मेर, विछड़या मलें थिए खेर ;
बेडयुं कच्छ हाकार्यों असीं, सदा विठा सारीयूं !
: माधव जोशी “अश्क”
facebook share

Leave a Reply