Kutchi Maadu Rotating Header Image

*कच्छ जी कमाड़*

कच्छ जी कमाड़
*********
हां रे ! मैया कच्छ जी कमाड़ ! देश देवी रखवाल !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
प्रगटेयें आपो आप डेरे रुपारे
आशापुरा ! अरजी तॉ देवचंदजी पारे
हां रे ! वार्यें नथी तुं निरास , हली अचें रखी आस ;
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
वाँझियें घर पींगा माडी़ ! तुं ती बधायें
अंधेंके अखियुं डीयें , लंगडा़ हलायें
हां रे ! भुख्यें-उञ्यें के अन्न-पाणी, डीयें कच्छ जी घणीयाणी !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
चाचरा जे स्नान जो , मैमा अंति भारी
तार्यें भव सागर म्यां , तॉजी बलियारी
हां रे ! अचें लक्खुं नर नारी , विञे तॉते वारी ! वारी !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
नॉरातें में धूप दीप , पूजा अर्चा आरती
चंडी पाठ रास छंद , होम हवन भारती !
हां रे ! आसन हिक़डे़ खडगधारी , कापडी़ वें व्रत धारी !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
रवेची रुद्राणी काली , कामाख्या चामुंडा
तुलजा भवानी चंडी , मंशा दुर्गा अम्बा
हां रे !नमें तॉके महीपाल , नमें जाडे़जा भूपाल !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
माधु जोषीजी कज , पूर्ण तुं ही आशा
सच ते रख निर्मल कज , तन मन ने वाचा
हां रे ! कच्छडे़ जो बेडो़ पार , नीरों रख तुं जियार !
माडी़ आशापुरा ! तुं दयाळी ! —
: माधव जोशी “अश्क”
facebook share

Leave a Reply