Kutchi Maadu Rotating Header Image

जेंणां पांके जलइ खपे

जेंणां पांके जलइ खपे
************
सचजी हमेसां थीये कसॉटी , जेंणां पांके जलइ खपे,
सच ते हमेसां रॉजे चॉटी, जेंणां पांके जलइ खपे.

चिईं डिंयेंजी चमक धुनियांजी , भलें लग़ेती खासी,
भाकीं गा़ल ही साव खोटी, जेंणां पांके जलइ खपे.

सीरा-पूडी लडूं ने भजीया, सिभाजें रोज कीं माडूके ?
ई मिठी लग़ंधी रोज रोटी, जेंणां पांके जलइ खपे.

गीत-गजलूं लिखी करीनें धरध तुं ओछो कैजें,
अचींघी ‘सरमाड़’ हथ्रॉटी, जेंणां पांके जलइ खपे.

: जगदीस गोर ‘सरमाण’
facebook share

Leave a Reply