Kutchi Maadu Rotating Header Image

मुधेंजी ग़ाल

अईं मातृभासा छडेजो चॉयॉता !
ग़ाल तां मुधेजी आय !
अइं मा जो धावण छडायॉ ता !
ग़ाल तां मुधेजी आय !

माजी कुखमें वा तॅर तां,
मा कुछई ते सेज सॉयां ते,
जनमे नूं मॉर , मिलेती निसीभमे “मातृभासा”
हाणें ईनके छडणी वॅ त,
हिकड़ो साव सॅलो रस्तो आय.

माजी कुख मिंजा न, डायरेक्ट टेस्ट ट्यूब मिंजा पॅधा थीजा ,
टेस्ट ट्यूबके कोय “मा” नती वॅ,
टेस्ट ट्यूबके कोय मातृभासा नती वॅ,
टेस्ट ट्यूबके धावण नतो वॅ,
आसाढ नें श्रावण नतो वॅ.

आंके ई सींभाय त
ग़ाल तां मुधेजी आय !

: कवि गुलाब देढिया (कच्छी कविता संग्रह “रांध” मिंजा)
facebook share

One Comment

  1. jayu says:

    gaal t muddheji aay …. gulab bhai

Leave a Reply