Kutchi Maadu Rotating Header Image

आवइ आसाडी बीज !

: सुखडी़ :
******
आसाडी बीज ! आवइ आसाडी बीज !
हाणें रांझल ! मुंजा , कच्छ ते तुं रीझ !
सीम सुंअणी थिये पोंग पचें ने;
सुखडी़ गुरोंता असीं , तॉ वटां इज !
अरज असांजी , सुण तुं एतरी ;
कच्छ जी विइयुं लड्डं , तुं वारीज !
पालर पाणी के , सा प्यो सिक्के ;
पसाय अखियेंसें , तुं पियारीज !
खीर छाय ज्युं नइयुं , वाय वरी कच्छ में ;
माधु जोषी भेरो , विइने तुं पीज !
: माधव जोशी “अश्क”
facebook share

One Comment

  1. GITIN says:

    કચ્છી નયે વરેજી વધાઈયું

    मडें कच्छी भा अने भेंणें के आसाढी बीज जी धिलथी वधायुं अने सवंत २०६७ कच्छी नवुं वरे मडें कच्छीयें ला करें सोख सम्रुध्धि थी भरयो रे एडी सुभेच्छा

Leave a Reply