Kutchi Maadu Rotating Header Image

किस्मत रेखा : बाल काव्य

किस्मत रेखा
बाल काव्य
-*-
चितर चितरीयां !
रत्ता पीरा , कारा नीला
गुल्ल गुलाबी , चितर चितरीयां!

सिज ने चंधर , तारा मंढल !
वसंधल मेघ मलार चितरीयां !

कुकड़ कागड़ो, हंस कबुतर,
तितर कलायल मोर चितरीयां !

हाथी घोड़ो , उठ गांय ने ,
रिढ़ ने बकरी , मे चितरीयां !

हिकड़े निनढड़े हथ जे विचमें ,
किस्मतजी आऊं , रेखा चितरीयां !

: माधव जोशी “अश्क”

facebook share

One Comment

  1. Sachin says:

    संतें झो कच्छी साहित्य

    http://www.kutchmitradaily.com/News.aspx?id=34435

Leave a Reply