Kutchi Maadu Rotating Header Image

धूणी रमाय गिन

धूणी रमाय गिन ध्यानजी,
कचरो बरी वेंधो कुडाईजो.
सचाई अची वेंधी सामें,
नें काठ निकरी वेंधो कुपाईजो.
“अगम”

जिंधगी

जिंधगी
——
मुंभइजा माडु कॅडी
जिंधगी गुजारीयें;

खें घरें त ओगार
ठेसनेंते वारीएं.

मनडो
——
सउं हले ज सिज उगाय,
ऊंधो हले त अंधेरी;

“तेज” चें एडो मनडो
छाल थीए म केंसे वेरी.

तंतर
—-
अज उड्घाटन में कतर,
स्वागत में आंटी;

“तेज” तंतर इं ज हलेतो,
कित फिटक कित डांटी

(कविजी चोपडी
“तेज-वाणी” मिंजा)

छिलांग

तॉजी वाट तें कोय
खडो करे त कॅनी
तूं नाराज न थीज
आभार मनी गिञ
वसंत ई ऊ आय
जुको तॉके छिलांग
मारे जो सिखायतो
*- वसंत मारू…चीआसर*

सदाय ताजा डसाईंधल

जय मां आसापुरां

महाशिवरात्री जी वधांईयू

वसंतराणी…

वसंतराणी….

नवले सोरॅं सणगारें महेकंधे आवई वसंतराणी
फुलडेंजा जांजर छमछमंधे आवई वसंतराणी

कोयलडीयूं कुणकारीएं, मोरलां आवकारीएं
पखीयेंजा स्वागत वधाइंधे आवई वसंतराणी

कवली कुंपर लचॅंत्यूं नें नचॅं लागणी डारें
खिसकोलीएं भॅरी रमंधे आवई वसंतराणी

नंयारङ, नंयाउमंग नें नंयेतरङे सोभेती धरा
प्रकृतिजी जुआणाई खीलाइंधे आवई वसंतराणी

केसूडे जा कामण सिज઼ सोन छाबें तां हींचें
वासंती वावरा चूमींधे आवई वसंतराणी

‘मन’ पिरीं मिलणें हेज तां हींयें हिलोरेंतो
कसधार बखुं भरींधे आवई वसंतराणी

मनीषा अजय वीरा ‘मन’🌹

अलग कच्छ राज्य : कीर्तिभाई खत्री साथे हकडी मुलाकात

कच्छ अलग राज्य भनायला आह्वान

कच्छ मे वधारेमे वधारेमे रोजगारजी तकुं ओभी करेला मिणीं कच्छीयें के अरज आय.
मिणींके कच्छी भासा मेज बोलेजी अरज आय.
जय कच्छ !

KachchhSeperateState_1611

Continue reading →

पंज महत्वजा कार्य पांजे कच्छ ला

पांजी मातृभूमी कच्छ, मातृभासा कच्छी ने पांजी संस्कृति ही पांला करे अमुल्य अईं. अज कच्छ में ऊद्योगिक ने खेतीवाडी में विकास थई रयो आय. बारनूं अलग अलग भासा बोलधल माडु प कच्छमे अची ने रेला लगा अईं. हॅडे वखत मे पां पांजी भासा ने संस्कृति के संभार्यूं ही वधारे जरूरी थई व्यो आय. अमुक महत्व जा कार्य जे अज सुधी पूरा थई व्या हुणा खप्या वा ने जे अना बाकी अईं हेनमेजा जे मिणीयां वधारे महत्वजा अईं से नीचे लखांतो.

१. चोवी कलाक जो कच्छी टी.वी.चेनल
अज जे आधुनिक काल में जमाने भेरो हले जी जरूर आय. अज मडे टी.वी. ने ईंटरनेट सुधी पोजी व्यो आय. हॅडे मे पांजा कच्छी माडु कच्छी भासा मे संस्कृति दर्सन, भजन, मनोरंजन, हेल्थ जी जानकारी ने ब्यो घणें मडे नेरेला मगेंता ही सॉ टका सची गाल आय. हेनजे अभाव में पांजा छोकरा ने युवक पिंढजी ऑडखाण के पूरी रीते समजी सकें नता. खास करेने जे कच्छ जे बार रेंता हु कच्छी भासा ने संस्कृति थी अजाण थींधा वनेंता.
कच्छी टी.वी.चेनल ते चॉवी कलाक कच्छी भासा में अलग अलग जात जा प्रोग्राम जॅडीते न्यूज, सीरीयल, हास्य कलाकार, खेतीवाडी जा सवाल जवाब, भजन, योगा,….नॅरेला मलें त कच्छी माडु धोनिया में केडा प हुअें कच्छ हनींजे धिल जे नजीक रॅ ने कच्छ प्रत्ये ने कच्छी भासा प्रत्ये गर्व वधॅ. भेगो भेगो पिंढजी ऑडखाण मजबुत थियॅ. ही कार्य मिणींया महत्वजो आय.
२. स्कूल में १ थी १० सुधी कच्छी भासा जो अभ्यास
अज कच्छ जे स्कूल में बो भासाएँ में सखायमें अचॅतो गुजराती ने ईंग्लीस. कच्छी भासा जे पांजी मातृभाषा आय ने घणे विकसित आय ही हकडी प स्कूल नाय जेडा १ थी १० धोरण सुधी सखायमें अचींधी हुए. कच्छी भासा जे उपयोग के वधारे में अचॅ त ही कच्छीयें ला करे सारी गाल आय ने स्कूल में सखायमें अचे त हनथी सारो कोरो. भोज, गांधीघाम जॅडे सहेरें में जेडा बई कम्युनीटी ( गुजराती,सींधी,हींदीभाषी,….) जा माडु प रेंता होडा ओप्सनल कोर्स तरीके रखेमें अची सगॅतो. १ थी १० क्लास सुधीजो अभ्यासक्रम पांजा कवि, साहित्यकार ने शिक्षक मलीने लखें त हेनके स्कूल में सखायला कच्छी प्रजा मजबूत मांग करे सगॅती. जॅडीते गुजरात, महाराष्ट्र,…. मे मातृभासा जो अभ्यासक्रम त हुऍतोज.

Continue reading →

खाराई ओठ

कडॅक अचींजा

कडॅक अचींजा
*~~~~~~~~*

प्रेमसे नोतरो जली ,कडॅक अचींजा
हूंभसे नोतरो जली, कडॅक अचींजा

वरे सजो रखातो, जाध करीजा
चांतो सामे हली, कडॅक अचींजा

बाना हलधा न कीं,मूधत डियूं वडी
मन करे ज भली, कडॅक अचींजा

भो भो ने भले भले, कडॅ म कईजा
कढो म गाल खिली, कडॅक अचींजा

भरी रखीयूं जाधूं, कांत केनीरीयूं
बारा कढीबो मिली, कडॅक अचींजा

*कांतिलाल कुंवरजी सावला कांत तुमडी*

नाय थका

*नाय थका..*

पग थका.. घुडा थका.
मंजिल ते पोजे जा थडकार
नाय थका..

भले बायपास वे के एन्जियोग्राफी ..
जिंदगी माणे जा धबकार
नाय थका..

भले रमुंता हेवर ओनलाईन ते..
पण चलक चलाणी रमे जा
ओरता नाय थका..

भले हॅवर मलुंता फेस बुक जे फरिये ने वोटस अप जे अंगण मे
पण बईयार फेस टु फेस मलेजा अरमान नाय थका..

मतलबी धोनिया मे कोय कोय जो नाय..
पण मतलब वगर याद कईंधल धोस्तार नाय थका

-विनोद